शीतकाल स्नान

ठण्ड बढ़ रही है | अब स्नान के निम्न प्रकार को इस्तेमाल किया जा सकता है |
१ - ककडी स्नान -> इस स्नान में पानी की बूंदों को अपने ऊपर छिड़कते हुए , मुंह धोया जा सकता है |
२ नल नमस्कार स्नान -> इस में आप नल को नमस्ते कर ले स्नान
माना जायेगा |
३ जल स्मरण स्नान -> यह उच्च कोटि का स्नान है , इसको रजाई के अन्दर रहते हुए पानी से नहाने को याद कर लो नहाया हुआ माना जायेगा|
और अन्तिम
 स्पर्शानूभूति स्नान -> इस स्नान में नहाये हु व्यक्ति को छूकर '
त्वं स्नानम् , मम् स्नानम् ' कहने से स्नान माना जायेगा

शीतकाल को देखते हुए तीन आधुनिक स्नान-

१. Online Bath- कंप्यूटर पर गंगा के संगम की फोटो निकाल कर उस पर ३ बार माउस क्लिक करें और फेसबुक पर उसे Background Photo के रूप में लगाएं.

२- Mirror Bath- दर्पण में अपनी छवि को देखकर एक-एक कर तीन मग पानी शीशे पर फेंकें और हर बार "ओह्हहा" करें.

३-Virtual Bath- सूरज की ओर पीठ कर अपनी छाया पर लोटे से पानी की धार गिराएँ और जोर-जोर से "हर-हर गंगे" चिल्लाएं.

यकीनन ताजगी महसूस होगी।
कसम से ज्ञान बहुत है मेरे पास पर कभी घमंड नहीँ किया
😇😇😇

No comments:

Post a Comment