आलम-ए-बेबसी

 क्या बताएं ग़ालिब अपनी नौकरी ज़िन्दगी का आलम-ए-बेबसी 
कि  अब तो दिवाली भी रूठ कर संडे को जा पहुंची। 

.  
सरकारी सेवक। 
*********************************************

No comments:

Post a Comment